Books Magazine

तुम सुंदर हो

By Jaideep Khanduja @PebbleInWaters
वो तो हो ही।
मगर तुम खुद क्या मानती हो?तन से या फिर मन से सुंदर हो तुम।
तन से -तो फिर हर बीतता पलतुम्हारा दुश्मन है।
तुम सुंदर हो
मन से - तो हर बीतता पल तुम्हारा अनमोल, बेमोलख़ज़ाना।

Back to Featured Articles on Logo Paperblog